Treplief- जीवित पात्र! नाटक में जीवन जैसा है वैसा नहीं बल्कि ‘जैसा होना चाहिए’ वैसा दिखाना होता है; सपनों वाला जीवन।

– anton chekhov के नाटक The Seagull के एक पात्र का कथन

इतिहास के हिसाब ये नाटक anton chekhov की पहली सफलता थी। मैं इस line पर बात करना चाहता हूँ। क्या संभावना होती है नाटक की, उसके पात्रों की, उसमें दिखाए जा रहे जीवन की? मैं इस बात से कहीं कहीं पर सहमत भी होता हूँ, लेकिन फिर असहमति भी आकर सामने बैठ जाती है।

नाटक कला है, कला का उद्देश्य होता है समाज का साफ साफ रूप दिखाना। साथ में जैसा समाज हो सकता है, खासकर बेहतर प्रारूप उसकी संभावना और उम्मीद लोगों को देना। तो नाटक दोनों काम कर सकता है क्या? जीवन जैसा है वैसा दिखाना भी जरूरी है! और जो हो सकता है वो भी! पर उसके दायरे क्या हैं?

कितनी असलियत नाटक में ठीक है? इसका कोई पैमाना है? कितना सपने जैसा जीवन हम दिखा सकते हैं इसकी कोई सीमा है?

आइए इस पर संवाद करते हैं।

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter

Receive top books recommendations, quotes, film recommendations and more of literature.

Invalid email address

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

9 Comments

  1. नाटक के जीवन की कोई सीमा नहीं होनी चाहिए अगर कुछ होना चाइये तो ऐसा जीवन जो असल में नहीं होता जिस जीवन की हर व्यक्ति कामना तो करता है पर उसको वो मिल नहीं पाता एक ऐसा जीवन जहाँ अपने सपने को उस नाटक के जरिये जिया जा सके एक ऐसा जीवन जहाँ नाटक के जरिये आसमान में खुल के उडा जा सके जहाँ समाज की कोई पाबन्दी न हो वहां अगर कुछ हो तो वो हो वो सपना जीस को देखा रातों में पर पूरा न कर सके उस सपने को नाटक के जीवन के जरिये जिया जा सके…….

    1. I agree कि नाटक के जीवन की कोई सीमा नहीं होनी चाहिए। साथ में ये भी तो दिखाया जा सकता है कि ऐसा जीना संभव है। जो जैसा है वैसा दिखाकर उसकी कमियां भी तो दिखाई जा सकती हैं! जिससे कुछ बदले? सपने सा जीवन दिखाना भी जरूरी है पर आइना दिखना भी जरूरी है वरना ये जीवन सिर्फ नाटक का रह जाएगा, हम जिएंगे कब??

  2. मेरा ऐसा मानना है की नाटक में जो जीवन होना चाहिए वो सच्चाई और समाज की पारदर्शिता को दर्शाता हुआ होना चाहिए।

      1. हो सकती होनी भी चाहिए आपने बिल्कुल सही कहा की संभावनाएं से भरा जीवन भी दर्शाना चाहिए और जो जैसा है वैसा भी दिखाना चाहिए नाटक में ताकि संसार में नए जीवन के अवसर के साथ आज के जीवन की कमियाँ भी उजागर हों।