Ahmad Faraz - अहमद फराज Top 10 Sher

फ़राज़ साहब (Ahmad Faraz) को कौन नहीं जानता, हर शायरी लिखने वाला इंसान इनके कलाम से वाक़िफ है। आपके कलाम पूरी दुनिया में लोग पढ़ते है। बरहाल ये बहुत मुश्किल काम है कि आपने कोई दस शेर चुनना, क्यूंकि आपके सभी शेर बेहद उम्दा है।

तो पेश हैं Ahmad Faraz साहब के Top 10 शेर 

अब तुम आए हो मिरी जान तमाशा करने
अब तो दरिया में तलातुम न सुकूँ है यूँ है

मसलन कोई शख्स हमसे जुदा हो जाता है और वो पलट के तो आता है लेकिन उस उम्र पे जब हम पूरी तरह से बेदिल हो जाते हैं हमारे अंदर से जज़्बात ख़तम हो जाते हैं।

Also: मनोज ‘मुंतशिर’ के top 10 शेर | Top 10


उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना
ऐ मिरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे

आज जो हमारा साथी है जो हमसफ़र है मुमकिन है की कल वो खिलाफ खड़ा हो लेकिन तभी मै दुआ करता हूं तुझे खुदा सलामत रखें।


हुआ है तुझ से बिछड़ने के बा'द ये मा'लूम
कि तू नहीं था तिरे साथ एक दुनिया थी

जब तू था मुझे ख़बर नहीं थी ना दुनिया की ना किसी की। अब बिछड़ने के बाद मालूम हुआ है कि एक तेरे अलावा भी बहुत लोग थे जिन्हें कभी नजरें नहीं दी।

Also: Gulzar – Triveni | The best among best


अगर तुम्हारी अना ही का है सवाल तो फिर
चलो मैं हाथ बढ़ाता हूँ दोस्ती के लिए

दोस्ती में रुकावट की बात अगर तुम्हारी अकड़ की है तो भी कोई बात नहीं। चलो मेरी तरफ से दोस्ती का पैग़ाम लेलो।


आज इक और बरस बीत गया उस के बग़ैर
जिस के होते हुए होते थे ज़माने मेरे

एक ज़माना था जब साथ जमाने होते थे आज एक एक बरस, माह, दिन गिन के गुजरते है।


बंदगी हम ने छोड़ दी है 'फ़राज़'
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ

क्या करेंगे बंदगी इबादत करके, जब तुम्हे इश्क़ मोहब्बत के मायने नहीं मालूम। तुम्हारी पूजा क्या की हमने तुम ख़ुद को खुदा मानने लगे। हमने अब छोड़ दी है इबादत तुम्हारी।

Also: इब्ने इंशा के Top 10 शेर | Ibne Insha Top 10


चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही

अब कहीं भी बेवफाई की चर्चा हो भले ही किसी और की ही हो, लेकिन नाम सुनते ही बेवफ़ाई का हमे आता है ख्याल तेरा।


अब तिरे ज़िक्र पे हम बात बदल देते हैं
कितनी रग़बत थी तिरे नाम से पहले पहले

अब तेरा नाम भी आए तो हम विषय बदल देते है, अब तेरे चर्चे अच्छे नहीं लगते हमे। एक दौर था जब तेरे नाम से मोहब्बत हुआ करती थी।


जब भी दिल खोल के रोए होंगे
लोग आराम से सोए होंगे

रोने से वजन हल्का होता है, जैसे किसी ने बोझ सीने से हटा दिया हो और ऐसा होने के बाद नींद भी अच्छी आती है।

Also: मुनव्वर राणा जी के Top 10 शेर | The Top 10


सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं

मुझे खबर मिली है कि तुमसे बात करने फूल खुशियां मनाते है, अगर ऐसा है तो चलो उन्हें ये मौका बार बार देते है


आपको इनमें से Ahmad Faraz साहब के कौनसे शेर पसंद आए नीचे comments में बताइए। और कोई शेर आपको पसंद हो तो वो भी बताइए। उस पर संवाद करते हैं। 

Also: 

मनोज ‘मुंतशिर’ – मेरी फ़ितरत है मस्ताना | Top 10

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter

Receive top books recommendations, quotes, film recommendations and more of literature.

Invalid email address

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.