फिल्म

In The Mood For Love | Something Beyond Words

हम संवादों के पीछे पागल हैं। इस कदर पागल कि उसमें जरा सी भी चुप्पी की गुंजाईश दिखते ही घुटन की भविष्यवाणी कर कोई ना कोई निरर्थक शब्द को बीच में ले आकर खुद को बचा लेते हैं। लेकिन अक्सर, नहीं बहुत बार असल संवाद शब्दों से परे होता है। उन उठती, पड़ोस से गुजरती, टटोलती निगाहों में जितना खुद के छुए जाने का सुख है वो शब्दों में नहीं मिल पाता। और अक्सर शब्द झूठा कर देते हैं उस बात को जो हम कहना चाहते हैं।

review | समीक्षा फिल्म हिन्दी

The Birds – Alfred Hitchcock At His Best

Alfred Hitchcock एक ऐसे director हैं जो किसी भी व्यक्ति, वस्तु, पक्षी और जो कुछ भी सोच पाओ – कुछ भी मतलब कुछ भी – किसी भी चीज से thrill create कर सकते हैं। It can be seen in The Birds.

The Birds 1963 की फिल्म है और ये भी Alfred Hitchcock की किसी भी चीज से thrill create करने के कला के बारे में कहानी कहती है। 

review | समीक्षा फिल्म

Eeb Allay Ooo! | The Perfect Cinema by Director Prateek Vats

एक सीन में republic day यानि 26 जनवरी की परेड चल रही है। बहुत से बंदर भगाने वाले आस पास हैं जिससे बंदर ना आ जाएँ। और फिर सामने से बंदरों की ही झांकी निकलती है और सब ताली बजाते हैं। ये अपने आप में बहुत ironic है। अंजनी की नजरों से देखने पर हँसी आती है। लेकिन तुरंत कुछ खयाल भी आते हैं।

नौकरी देने से पहले documentary दिखाई जाती है बंदरों पर जिसमे कहा जाता है कि – पहले इंसानों ने इन्हे भगवान का दर्जा दिया। खाने को प्रसाद और दूसरी चीजें दीं। तो इनका हौसला बढ़ गया। इन्हे लगता है कि इन्हे खाना खाने के लिए खाना ढूँढने की जरूरत नहीं है।

फिल्म

Trance : Business + Religion | Malyalam Movie

Trance को देखने के बाद पहला खयाल जो दिमाग में आया वो ये था कि ये मूवी Pan India level पर रिलीज क्यूँ नहीं हुई? ये मूवी ऐसी है कि पूरे वर्ल्ड को इसे देखना चाहिए। फिल्म एक strong take है सारे दुनिया के धर्मों और वो भी एक बोल्ड statement के साथ। ये मूवी…

review | समीक्षा फिल्म

The Seventh Seal | A game of chess between Death and Man

Imagine करो – मूवी स्टार्ट हुई। दूसरे ही फ्रेम में हीरो के सामने आती ही काले कपड़े और सफेद चेहरे पर वाली मृत्यु। कहती है – चलो टाइम हो गया। हीरो कहता है – नहीं। आओ शतरंज खेलें, तुम जीते तो अपन चलेंगे नहीं तो तुम खाली हाथ जाना।

review | समीक्षा फिल्म

Dr Strangelove | The King of Parody Movies

देखो एक होती है Parody फ़िल्म जिसमें समाज की कुछ selective चीजों का मजाक उड़ाया जाता है। कुछ parody फिल्म्स फिल्मों का ही मजाक उड़ाती हैं और फिर आती है Dr. Strangelove जो मजाक मजाक में इतना कुछ कह जाती है कि आप एक तरफ तो ग़ज़ब हँस रहे होंगे और साथ में ऐसा cringe फ़ील करेंगे उस हँसने पर और human होने पर।

review | समीक्षा फिल्म

Extraction | A movie for fans of action + Chris Hemsworth

फिल्म की कहानी ये है कि एक बालक kidnap हो जाता है – India के Bangladeshi drug mafia द्वारा। उसे बच्चे को बचाने जा रहे हैं Chris Hemsworth और कहानी में twist डालते हैं Randeep Hooda. Basically इतनी ही कहानी है।

review | समीक्षा फिल्म

Paths of Glory | The Perfect Combination of Entertainment and Message

कुछ फिल्में होती हैं जो अपना काम बहुत बखूबी करती हैं – एक तो entertain करना और दूसरा कुछ ऐसा कह जाना जिसके बारे में आप बहुत देर तक, यहाँ तक कि दिनों तक सोचते रहो। Paths of Glory उन्हीं फिल्म्स में आती है। 

Entertain करने के लिए क्या चाहिए – कहानी अच्छी हो, acting अच्छी हो, engaging हो और music अच्छा हो। और कुछ कह जाए के लिए जरूरी है कि director कुछ ऐसे दिखाए कि मूवी के dialogues और visuals हिट करें।

फिल्म हिन्दी

Barry Lyndon – Painting in Every Frame | Stanley Kubrick

अगर मैं कहूँ कि किसी मूवी का हर दूसरा सीन एक पेंटिंग की तरह है तो आप क्या कहेंगे? जब Barry Lyndon रिलीज हुई थी तब उसने बहुत कुछ बदल था। Stanley Kubrick की genius ये थी कि उन्होंने cinematography और movie making के frame को बदल कर रख दिया था।

review | समीक्षा फिल्म

Before Sunrise Trilogy | Simple yet Beautiful Experience

Before Sunrise (1995) (trailer), Before Sunset (2004) (trailer), Before Midnight (2013) (trailer)- ये तीनों फिल्म romantic genre को redefine करती हैं। ये वैसे तो सबको ही देखनी चाहिए लेकिन खास उन लोगों की favourite लिस्ट में जरूर जुड़ जाएंगी जिन्हे romantic फिल्म्स की आदत है।