विनोद कुमार शुक्ल- कविता से लंबी कविता | Review | पढ़ने के Top 10 कारण

विनोद कुमार शुक्ल- कविता से लंबी कविता | Review | पढ़ने के Top 10 कारण

गीत चतुर्वेदी जी ने अपने interview में कहा है कि विनोद कुमार शुक्ल हवा में सरलता से चलने वाले कवि हैं और व्योमेश शुक्ल ने लिखा है – “ज़िंदगी कितनी कम विनोद कुमार शुक्ल है।” और फिर आप जब एक बार इनके संसार में कदम रखते हैं तो आप जमीन से दो इंच ऊपर ही चलेंगे। अभी- अभी विनोद कुमार शुक्ल जी की किताब कविता से लंबी कविता  किताब पढ़ी है और इस समय जिस zone में हूँ उसको केवल विनोद कुमार शुक्ल के संसार को जानने वाला ही समझ सकता है।

Chekhov’s The Seagull – Some lines

Chekhov के नाटक The Seagull पढ़ते हुए ये कुछ पंक्तियाँ पसंद आईं हैं –   अच्छे साहित्य में सवाल नए या पुराने तरीकों या रूपों का नहीं है, बल्कि विचारों का है जो लेखक के हृदय से स्वतंत्रता से निकले हों, बगैर उसके सोचे कि उनका रूप क्या होगा। – चेखव – नाटक  – द…

दूधनाथ सिंह | युवा खुशबू और अन्य कविताएँ – Review | Part-2

दूधनाथ सिंह | युवा खुशबू और अन्य कविताएँ – Review | Part-2

अमर मैं रहूँगा तो बार-बार मरूँगा।
-कविता – चलूँगा

दूधनाथ सिंह | युवा खुशबू और अन्य कविताएँ – Review | Part-1

दूधनाथ सिंह | युवा खुशबू और अन्य कविताएँ – Review | Part-1

उसने मेरी आँखों में छिपी वह गहरी दरार देख ली और अंदर प्रवेश कर गई।
– कविता – युवा खुशबू

Panchayat (Amazon Prime) से जानने वाली Top 10 चीजें

Panchayat (Amazon Prime) से जानने वाली Top 10 चीजें

पहले तो मैंने सोचा था Panchayat जो कि Amazon Prime Video पर है उसको जल्दी जल्दी निपटा दूँगा – आखिर हर सीरीज में कुछ चीजें तो forward करने के लिए मिल ही जाती हैं पर भाईसाहब इस सीरीज में नहीं हैं। तो सीरीज देखते देखते कुछ खास बातें पता चलीं जो शायद किसी और सीरीज से नहीं पता चल सकती थी बस वहीं बता रहा हूँ।

Special Ops देखने के Top 10 reasons | Review

Special Ops देखने के Top 10 reasons | Review

Special Ops आ गई है- Hotstar पर मिल जाएगी देखने को। इधर देख भी ली गई और बहुत गजब है। मतलब बहुत गजब। देखते ही सबसे पहले मन में आया कि दूसरों से कहूँ कि देख लो। वैसे तो यहाँ एक post पड़ चुकी है कि Special Ops के 10 उम्दा moments कौनसे हैं पर मेरे मन में था कि सबको बताऊँ कि देखने की 10 वजह क्या हैं। तो पेश हैं-

Special Ops देखने के Top 10 reasons

अनुवाद | Translation | Pablo Neruda

अनुवाद | Translation | Pablo Neruda

“रात की चिड़िया सबसे पहले
उन सितारों को
चुगती है,
जो मेरी आत्मा से फूटते हैं,
जब जब मैं तुमसे प्रेम करता हूँ। “

बाल्टी | मानव कौल

बाल्टी | मानव कौल

वक्त बीतते-बीतते निचोड़ता चलता है एक बाल्टी तुमको। बाहर आँगन में जो कपड़े सूख रहे हैं-मेरे पुराने कपड़े-वे तुम्हारी याद का पानी छोड़ने को तैयार नहीं हैं। कुछ पुराने कपड़े जो वड़ी कोशिशों के बाद सुखा चुका है, वे भी बड़े जिद्दी निकले।

A Soldier’s Play – नाटक  समीक्षा | Play Review

A Soldier’s Play – नाटक समीक्षा | Play Review

कोई नाटक किसी समय की सोच और उस से जुड़े सवाल इतने पारदर्शी और सुंदर ढंग से कह सकता है, मैंने सोचा नहीं था। इसको पढ़ने के बाद अच्छे से समझ में आता है कि क्यूँ Charles Fuller को इस नाटक के लिए Pulitzer Prize मिला होगा।

नाटक में जीवन कैसा होना चाहिए?

नाटक में जीवन कैसा होना चाहिए?

जीवित पात्र! नाटक में जीवन जैसा है वैसा नहीं बल्कि ‘जैसा होना चाहिए’ वैसा दिखाना होता है; सपनों वाला जीवन।