नौकर की कमीज – विनोद कुमार शुक्ल | अंश

नौकर की कमीज – विनोद कुमार शुक्ल | अंश

संघर्ष का दायरा बहुत छोटा था। प्रहार दूर-दूर से और धीरे-धीरे होते थे इसलिए चोट बहुत जोर की नहीं लगती थी। शोषण इतने मामूली तरीके से असर डालता था कि विद्रोह करने की किसी की इच्छा ही नहीं होती थी। या विद्रोह भी बहुत मामूली किस्म का होता। यदि सब्जी बहुत महंगी मिलती थी तो इसका कारण उन सब्जी बेचनेवालों को समझता जो टोकरी में सब्जी बेचने मुहल्ले-मुहल्ले घूमते थे। उनसे सब्जी तौलाते समय डपटकर बोलता – तौल ठीक होना चाहिए। सड़ी आलू मत डाल देना। तुम लोग ठगते हो, डंडी मारते हो, लूटते हो। यही मेरा विद्रोह था।

Raghuvir Sahai-  रघुवीर सहाय की TOP 3 कवितायेँ पार्ट -2

Raghuvir Sahai- रघुवीर सहाय की TOP 3 कवितायेँ पार्ट -2

Rahuvir Sahai – रघुवीर सहाय जी के बारे में आपको अपने पिछले ब्लॉग में बता चुके थे, अगर अपने अभी तक नहीं पढ़ा है तो यहाँ से पढ़िए पार्ट – 1।  फिर भी उनके बारे में  बता सहाय जी एक प्रशिद्ध लेखक के साथ साथ एक पत्रकार भी रहे थे।  उन्होंने समाज के हर पहलू…

Kunwar Narain | कुँवर नारायण | Top 10 सुंदर पंक्तियाँ

Kunwar Narain | कुँवर नारायण | Top 10 सुंदर पंक्तियाँ

नहीं चाहिए तुम्हारा यह आश्वासन
जो केवल हिंसा से अपने को सिद्ध कर सकता है।
नहीं चाहिए वह विश्वास, जिसकी चरम परिणति हत्या हो।
मैं अपनी अनास्था में अधिक सहिष्णु हूँ।
अपनी नास्तिकता में अधिक धार्मिक।
अपने अकेलेपन में अधिक मुक्त।
अपनी उदासी में अधिक उदार।
– kunwar narain

Hitchhiker’s Guide to Galaxy | Universe and Every Theory

Hitchhiker’s Guide to Galaxy | Universe and Every Theory

जैसे ही कोई ये समझ लेगा कि universe क्यूँ बना, इसका काम क्या है – वैसे ही ये वाला universe गायब हो जाएगा और इसकी जगह दूसरा universe आ जाएगा – जो पहले वाले से कई गुना ज्यादा कठिन यानि कि complex और bizarre होगा।
ऊपर वाली theory से related theory है – कि ऐसा कई बार हो चुका है।

Raghuvir Sahay की TOP 3  कविताओं  के अंश (पार्ट -1)

Raghuvir Sahay की TOP 3  कविताओं  के अंश (पार्ट -1)

जैसे गरीब पर किसी ताकतवर की मार 
जहाँ कोई कुछ कर नहीं सकता 
उस गरीब के सिवाय 
और वह भी अक्सर हँसता है 
हँसो हँसो जल्दी हँसो 
इसके पहले कि वह चले जायें 
उनसे हाथ मिलाते हुए 
नज़रें नीची किये 
उनको याद दिलाते हुए हँसो 
कि तुम कल भी हँसे थे। 

Kedarnath Singh | केदारनाथ सिंह की कविताओं के अंश

Kedarnath Singh | केदारनाथ सिंह की कविताओं के अंश

मैं पूरी ताक़त के साथ
शब्दों को फेकना चाहता हूँ आदमी की तरफ
यह जानते हुए कि आदमी का कुछ नहीं होगा
मैं भारी सड़क पर सुनना चाहता हूँ वह धमाका
जो शब्द और आदमी की टक्कर से पैदा होता है
– केदारनाथ सिंह

Metropolis | Future Generation Movie in 1927

Metropolis | Future Generation Movie in 1927

ठीक 7 साल बाद हो जाएगा 2027. अब सोचो आज से 93 साल पहले यानि कि 1927 में एक मूवी बनी हो – थीम हो science fiction. Dystopian society. उसमें robots हों। एक ऐसा future वाला शहर दिखाया गया हो जिसमें multilayerd transport है trains का। बिल्डिंग्स के बीच से transport के लिए हवाई जहाज उड़ रहे हैं। धरती के नीचे पूरा एक शहर है बहुत सारे लेवेल्स पर और धरती के ऊपर भी। और इस पूरे शहर का एक मालिक है। अजीबोगरीब machines हैं।

Deewar Me Ek Khidki Rehti Thi | Vinod Kumar Shukla

Deewar Me Ek Khidki Rehti Thi | Vinod Kumar Shukla

नीम के पेड़ के नीचे का अधिक अंधेरा हाथी के अंधेरे के आकार का था। रात के बीतने से जाता हुआ यह अंधेरा, शायद हाथी के आकार में छूट गया था। ज्यों ज्यों सुबह होगी हाथी के आकार का अंधेरा हाथी के आकार की सुबह होकर बाकी सुबह में घुलमिल जाएगी।