Revolutionary Road | Dreams, Life & Them

Revolutionary Road | Dreams, Life & Them

फ़िल्म को देख मन में कितनी ही बार यह सवाल आता है कि क्या सच में हमारे खालीपन और निराशा से भागा जा सकता है? और अगर हम भाग भी लेते हैं तो जहाँ ठहरेंगे वहाँ खालीपन और निराशा नहीं होगी यह बात कितनी निश्चितता से कही जा सकती है। यह सब सोचते हुए मानव कौल की लिखी एक बात भीतर कहीं गूँजने लगती है “किसी के चुनते ही जो नहीं चुना वह दिमाग में रह जाता है और जो चुन लिया वह हमारे थके हुए जीवन का हिस्सा बन जाता है।”

Hamid | Beautiful & Essential

Hamid | Beautiful & Essential

Hamid 2018 की फिल्म है जिसके director हैं Aziz Khan. फिल्म को National और international level पर बहुत से अवॉर्ड मिले हैं। जैसे कि National Film Award for Best Child Artist और National Film Award for Best Feature Film in Urdu. Talha Arshad Reshi, रसिका दुग्गल, विकास कुमार और सुमित कौल मुख्य भूमिका में हैं।

Apocalypse Now | A Poetic War Movie

Apocalypse Now | A Poetic War Movie

Apocalypse Now 1979 की फिल्म है जिसे डायरेक्ट किया है The Godfather के डायरेक्टर Francis Ford Coppola ने। फिल्म Marlon Brando, Martin Sheen, Robert Duvall की acting और अपनी कहानी, cinematography, sound, art direction, editing के लिए Oscars में nominate हुई थी।

Her | Irony of Loneliness

Her | Irony of Loneliness

“Her” – 2013 में Spike Jonze के निर्देशिन में बनी इस फ़िल्म को 86th Academy Awards में Best Original Screenplay का अवार्ड मिला और 2016 में इसे 84th greatest film since 2000 का दर्जा दिया गया 177 फ़िल्म critics के द्वारा।

In The Mood For Love | Something Beyond Words

In The Mood For Love | Something Beyond Words

हम संवादों के पीछे पागल हैं। इस कदर पागल कि उसमें जरा सी भी चुप्पी की गुंजाईश दिखते ही घुटन की भविष्यवाणी कर कोई ना कोई निरर्थक शब्द को बीच में ले आकर खुद को बचा लेते हैं। लेकिन अक्सर, नहीं बहुत बार असल संवाद शब्दों से परे होता है। उन उठती, पड़ोस से गुजरती, टटोलती निगाहों में जितना खुद के छुए जाने का सुख है वो शब्दों में नहीं मिल पाता। और अक्सर शब्द झूठा कर देते हैं उस बात को जो हम कहना चाहते हैं।

Bhonsle | मेरे लिए क्या है!

Bhonsle | मेरे लिए क्या है!

चारों तरफ गूँजता नफ़रत का शोर, उस शोर के नशे में डूब चुके लोग और इन सब के बीच मौन बैठी एक बूढ़ी जर्जर होती देह जो सूनी आँखों से यह सब देख रही है। वो भोंसले है, परंतु भोंसले कौन है? मेरे लिए तो भोंसले जवान होती नफ़रत और हिंसा के बीच बूढ़ी होती हमारी मनुष्यता है, हमारी आत्मा है। जिससे हम आँखें नहीं मिला पाते हैं, जिसकी आँखों में देख मानो हम खुद की मर चुकी आत्मा को आईने में देख लेते हैं।

Dekalog : Krzysztof Kieślowski | Life Changing, Mesmerizing, Otherworldy

Dekalog : Krzysztof Kieślowski | Life Changing, Mesmerizing, Otherworldy

चुप्पी का सबसे सुंदर रूप सोचो : फिर सोचो कुछ उससे भी ज्यादा सुंदर : सोचो, हर व्यक्ति सवालों के घेरे में लड़कर जीता है : जानो, चक्रव्यूह में फंसा अभिमन्यु सिर्फ महाभारत में ही नहीं होता: हर कोई अभिमन्यु है अपने जीवन का : ईश्वर रणभूमि में होकर भी तुम्हारे युद्ध में हस्तछेप नहीं करते : वो बस देखते हैं तुम्हारी कर्मठता और तुम्हारे चुनाव।

Bhonsle | This film is about us

Bhonsle | This film is about us

बहुत सुंदर और बहुत जरूरी फिल्म है – भोंसले। शुरुआत में धीमी लग सकती है अगर ऐसे सिनेमा की आदत नहीं है पर तब भी प्लीज देखो- ये फिल्म आने वाले सालों में जो भीतर कुरेदेगी वो बेहद जरूरी है। और हाँ फिल्म देखते हुए घुटन महसूस होगी क्यूंकि director ने cinematography का use intentionally वैसा किया है।

Capernaum | Morsel of Struggle & Hope

Capernaum | Morsel of Struggle & Hope

Capernaum 2018 की एक Lebanese फिल्म है। जिसको डायरेक्ट किया है Nadine Labaki ने। Capernaum को Cannes Film Festival में 15 मिनट का standing ovation मिला था और ये अब तक की सबसे ज्यादा पैसे कमाने वाली Arabic फिल्म है। फिल्म में 12 साल के Syrian refugee child actor Zain Al Rafeea ने काम किया है। 

Nine: Dreams, Fiction, Reality and The Magic of Cinema

Nine: Dreams, Fiction, Reality and The Magic of Cinema

कुछ दिन होते हैं जब हम ये pinpoint नहीं कर पाते कि ये सपना है या हक़ीक़त। पूरा दिन ऐसा लगता है कि सपना है। सपने और असल जीववन के बीच की लकीर धूमिल (blurred) पड़ जाती है। और अगर ये कोई film बहुत भीतर तक महसूस करवा दे तो?